मीडिया सेंटर मीडिया सेंटर

प्रश्‍न संख्‍या 4063 विदेशी जेलों में बंद भारतीय

अप्रैल 07, 2022

राज्य सभा
अतारांकित प्रश्‍न संख्‍या 4063
दिनांक 07.04.2022 को उत्तर देने के लिए

विदेशी जेलों में बंद भारतीय

4063. डा. फौजिया खान:

क्या विदेश मंत्री यह बताने की कृपा करेंगे कि :

(क) विभिन्‍न विदेशी जेलों में कितने भारतीय बंद है, कारणों सहित ऐसे मामलों का देश-वार ब्‍यौरा क्‍या है;

(ख) सरकार द्वारा ऐसे लोगों की जल्‍द से जल्‍द रिहाई करवाने के लिए क्‍या कदम उठाए जा रहे है; और

(ग) सरकार द्वारा यदि कोई कदम उठाए गए हो, तो उनका क्‍या परिणाम रहा है?

उत्तर
विदेश राज्य मंत्री
(श्री वी. मुरलीधरन)

(क) मंत्रालय में उपलब्ध सूचना के अनुसार, वर्तमान में विदेशी जेलों में विचाराधीन भारतीय कैदियों सहित भारतीय कैदियों की संख्या 8278 है। कारावास के कारणों सहित देश-वार सूची अनुबंध-IPDF file that opens in new window. To know how to open PDF file refer Help section located at bottom of the site. में दी गई है। हालांकि, कई देशों में लागू कड़े निजता कानूनों के कारण, स्थानीय प्राधिकरण कैदियों के बारे में तब तक कोई जानकारी साझा नहीं करता, जब तक कि संबंधित व्यक्ति ऐसी जानकारी प्रकट करने की सहमति नहीं देता। यहां तक कि जानकारी साझा करने वाले देश भी आमतौर पर कैद किए गए विदेशी नागरिकों के बारे में विस्तृत जानकारी नहीं देते।

(ख) सरकार विदेशी जेलों के बंद नागरिकों सहित विदेश में भारतीयों की सुरक्षा, हिफाजत और कल्याण को सर्वोच्च प्राथमिकता देती है। विदेश में स्थित भारतीय मिशन/केंद्र सतर्क रहते हैं और स्थानीय कानूनों के उल्लंघन/उल्‍लंघन के आरोप में विदेशों में भारतीय नागरिकों को जेल में डाले जाने की घटनाओं की बारीकी से निगरानी करते हैं।

जैसे ही भारतीय मिशन/केन्‍द्र को किसी भारतीय नागरिक को हिरासत में लिए जाने/गिरफ्तारी की सूचना मिलती है, तो वे तुरंत स्थानीय विदेश कार्यालय और अन्य संबंधित स्थानीय प्राधिकारियों से संपर्क करता है ताकि हिरासत में लिए गए/गिरफ्तार किए गए भारतीय नागरिक को कोंसुली सहायता प्रदान करके मामले के तथ्यों का पता लगया जा सके, उसकी भारतीय राष्ट्रीयता की पुष्टि की जा सके और उनका कल्याण सुनिश्चित किया जा सके। भारतीय मिशन और केन्‍द्र उन्हें हर संभव कोंसुली सहायता प्रदान करने के अतिरिक्‍त यथासंभव कानूनी सहायता प्रदान करने में भी सहायता करते हैं। ऐसे मिशन और केन्‍द्र में वकीलों का एक स्थानीय पैनल भी होता है जहां भारतीय समुदाय अधिक संख्‍या में है।

(ग) विदेश में स्थित भारतीय मिशन और केन्‍द्र विदेशी जेलों में बंद भारतीय नागरिकों के प्रत्यावर्तन के मुद्दे पर संबंधित स्थानीय प्राधिकारियों के साथ नियमित रूप से कार्रवाई करते हैं। सरकार अन्य देशों के साथ कोंसुली और अन्य विचार-विमर्श के दौरान भी इस मुद्दे पर अनुवर्ती कार्रवाई करती है।

इसके अतिरिक्त, सरकार विदेश स्थित अपने मिशनों/केंद्रों के माध्यम से और उच्च स्तरीय यात्राओं के दौरान विदेश में बंद भारतीय कैदियों की सजा को माफ करने/संशोधित करने का मामला उठाती है/उस पर अनुवर्ती कार्रवाई करती है। पिछले दो वर्षों में, विदेशी सरकारों द्वारा कुल 700 भारतीय नागरिकों की सजा माफ की गई है या उनकी सजा कम की गई है।

***

Comments
टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code


संसदीय प्रश्न एवं उत्तर
यह भी देखें